Wednesday, April 10, 2013

कुसूर ...


क्या खूब अपार्टमेन्ट बनाया है 'खुदा' ने 
हर एक माले की, है अपनी अपनी खूबी ? 
... 
शर्त तुम्हारी, पद हमारा 
कहो अब क्या कहना है ?
... 
लो, उन्ने उन्हें हिट करने की सुपाड़ी ली है 
जैसे, वे खुद ही........साहित्यिक डॉन हों ?
... 
गर हम चाहेंगे तो सजदे में तुझे मांग लेंगे 
बाद उसके, 'खुदा' जाने या तू जाने ?????
... 
ये, उनके तंग लिबासों का कुसूर नहीं है 'उदय' 
हुस्न का जिस्म से छलकना भी तो जायज है ?
... 

5 comments:

yashoda agrawal said...

आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 13/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

प्रवीण पाण्डेय said...

सन्नाट कटाक्ष

Rajendra Kumar said...

आपको नवसंवत्सर की हार्दिक मंगलकामनाएँ!

Onkar said...

सुन्दर प्रस्तुति

Pratibha Verma said...

बेहतरीन रचना
पधारें "आँसुओं के मोती"