Saturday, May 8, 2010

मदर्स डे ( मां )

मां - ममता
प्यार - दुलार
लेना - देना
चाह - प्यार

अग्नि - तेज
दुख - पीडा
क्रोध - कष्ट
भष्म - भष्मम

मां - साया
छाया - शीतल
पूजा - प्रार्थना
रक्षा - कवच

शत्रु - राक्षस
कष्ट - निवारण
बुरी - नजर
काला - टीका

मां - शक्ति
कील - काजल
भूत - पिशाच
दूर - निवारण

अग्नि - पवन
रंग - चंदन
फ़ूल - खुशबू
धरा - अंबर

जन्म - जन्मांतर
दुर्गा - काली
लक्ष्मी - सरस्वती
मां - मां !

16 comments:

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

माँ तो माँ है .... बस माँ है !

honesty project democracy said...

उम्दा प्रस्तुती जिसमे माँ के हर ममता को चित्रण करने की कोशिस /

अरुणेश मिश्र said...

अति प्रशंसनीय ।

दिलीप said...

waah saare shabd kareene se baithaye hain waah...

राज भाटिय़ा said...

आप की कविता पढ कर लगा कि मां की स्तुति मै कोई श्लोक पढ रहा हुं, बहुत सुंदर.
धन्यवाद

सूर्यकान्त गुप्ता said...

माँ शरण मे हूं रक्षा कर। बहुत सुन्दर मां की स्तुति का नायाब तरीका।

M VERMA said...

माँ की पहचान मातृत्व से है -- नमन

ललित शर्मा said...

माँ को नमन

रश्मि प्रभा... said...

मां - साया
छाया - शीतल
पूजा - प्रार्थना
रक्क्षा - कवच....maa kee mahima akhand, achhed, abhed

राजेन्द्र मीणा said...

जी नमस्ते ..... एक अच्छी प्रस्तुति ....सुन्दर रचना ../माँ पर कुछ भी लिखो कम ही लगता है ..फिर भी आपने बहुत सुन्दर लिखा है ...बस इसे पढ़ कर इतना ही कहूँगा की दुनिया की हर माँ को शत-शत नमन ....'माँ ' शब्द अपने आप में महान है /// और इसी महान शब्द पर हमने भी कुछ लिखने की कोशिश की है ....उसे भी अपनी टिपण्णी में ही शामिल समझे ....आपके सुझाव सादर आमंत्रित है
http://athaah.blogspot.com/2010/05/blog-post_08.html

राजेन्द्र मीणा said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Amitraghat said...

बेहतरीन तरीके से लिखी गई कविता "

दिगम्बर नासवा said...

माँ माँ माँ ... माँ कह दिया तो आगे और क्या कहना ... बहुत अच्छा लिखा है ...

अर्चना तिवारी said...

बहुत सुंदर प्रस्तुति... मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

विनोद कुमार पांडेय said...

श्याम जी बहुत ही खूबसूरत प्रस्तुति..माँ को नमन है...मातृ दिवस की हार्दिक बधाई

संजय भास्कर said...

मातृ दिवस के अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें