Saturday, July 10, 2010

काफ़ी हाऊस ... टी.व्ही. न्यूज एंकर टेंशन में !!!

काफ़ी हाऊस ... दोपहर का टाईम ... बोले तो टाईम पास का टाईम ... टाईम पास बोले तो थोड़ा फ़ुर्सत का टाईम ... मतलब चाय, काफ़ी, सिगरेट बगैरह बगैरह ... अरे भाई ये तो कहने का है, सच बोले तो टेंशन का टाईम ... टेंशन बोले तो नौकरी का टेंशन, खबर का टेंशन, न्यूज का टेंशन, बॉस का टेंशन .... टेंशन ही टेंशन भाई ... अरे यार इतना टेंशन तो काए को नौकरी करता है ... इसीच्च लिये तो इधर बैठा है भाई ... चल चल टेंशन लेने का नहीं अपुन गयेला है ... अपुन बोले तो अपुन का बॉस "उदय" रहेला है ... झक्कास ... अभीच्च आप लोगों का टेंशन ... बोले तो चुटकी में खल्लास ... "उदय" कौन ... बोले तो कुछ भी नहीं पर बहुत कुछ है ... कुछ लिखता-पढता है .... "सॉलिड दिमाग" रखता है भाई ...

... "उदय" का इंट्री ... बोले तो ... काफ़ी हाऊस चका-चका ... सब टाईम-टू-टाईम ... बॉस सल्यूट मारता है ... हां हां क्या हाल चाल है .. सब झक्कास बॉस ... आपका आर्डर रेडी हो रहेला है ... बस एक-दो मिनट ... बॉस, बाजु बाला टेबल मे कुछ टेंशन ... बता बता क्या बात है ... बोले तो बडे लोग हैं ... चल चल बोल, छोटा-बडा छोड ... भाई ये सब टेंशन में बैठेईला है ...क्या हुआ बता ... टी.व्ही. न्यूज वाले हैं ... बता बता क्या बात है ... इनका नौकरी खतरे में लग रहेला है ... कुछ मदद मांगता क्या? ... हां बॉस ... बुला बुला ...

... "उदय" की टेबल पर न्यूज चैनल वाले ... आईये आईये ... कैसे हैं ... कुछ खास नहीं बस यूं ही ... बोलो बोलो अभी अभी ये वेटर बोल रहा था कि आप लोग टेंशन में है ... हां 'उदय भाई' टेंशन तो है पर क्या बताएं शर्म आती है ... बिंदास बोलो क्या बात है ... सभी एंकर एक साथ बोल पडे ... बॉस का टेंशन है भाई ... बोले तो बास चाहता है कि कुछ नया करो ... नया करो ... पच्चीस न्यूज चैनल चल पडेला है ... नया खबर लायें तो कहां से लायें ... बस यहीच्च टेंशन है ... बस इत्ती सी बात ...

... तुम लोग सारी दुनिया को टेंशन देता है और खुदिच्च टेंशन में हो ... सब लोग कान "खुजा" के बैठो अपुन एक बार बोलेगा ... रिपीट करने को नई मांगता ... पाव-भाजी, समोसा-गुपचुप दिखाया हिट था ... पानी पर चलना दिखाया हिट था ... रावण का ममी दिखाया हिट था ... अब गौर से सुनो ये कोई खबर था क्या ... नई था सब बकवास था ... पर हिट था ... ये अपुन के देश का जनता है ... हर टाईम टोपी पहनने को घूमते रहता है बस नया आदमी चाहिये टोपी पहनाने वाला ... लो एक "मंत्र" ले जाओ ... सब लोग अपने अपने बॉस के कान में "फ़ूंक" दो ... "मायने यह नहीं रखता कि पब्लिक क्या देखना चाहती है, मायने यह रखता है कि हम क्या दिखाना चाहते हैं" ... क्या समझा ... बोले तो ... "मायने यह नहीं रखता कि पब्लिक क्या देखना चाहती है, मायने यह रखता है कि हम क्या दिखाना चाहते हैं" ... थैंक्यू बॉस ... थैंक्यू ... !!!!

15 comments:

ललित शर्मा said...

जाओ जो दिखाना है दिखाओ ... पर लपेट लपेट के उलट-पुलट के।

जोरदार उदय भाई

टीआरपी के लिए कुछ भी करेगा।

शेरघाटी said...

अच्छा व्यंग्य....मज़ा आ गया..जमे रहो भाई

समय हो तो इस कविता नुमा अंशों को पढ़ें और अपनी माकूल राय दें
बाज़ार,रिश्ते और हम http://shahroz-ka-rachna-sansaar.blogspot.com/2010/07/blog-post_10.html

शहरोज़

ब्लाग बाबू said...

अंकल अपुन को कोई टेंशन नही है हा हा हा ।

ब्लाग बाबू said...

अंकल अपुन को कोई टेंशन नही है हा हा हा ।

ब्लाग बाबू said...

अंकल अपुन को कोई टेंशन नही है हा हा हा ।

ब्लाग बाबू said...

अंकल अपुन को कोई टेंशन नही है हा हा हा ।

ब्लाग बाबू said...

अंकल अपुन को कोई टेंशन नही है हा हा हा ।

ब्लाग बाबू said...

अंकल अपुन को कोई टेंशन नही है हा हा हा ।

ब्लाग बाबू said...

अंकल अपुन को कोई टेंशन नही है हा हा हा ।

ब्लाग बाबू said...

अंकल अपुन को कोई टेंशन नही है हा हा हा ।

ब्लाग बाबू said...

सब लोग कान "खुजा" के बैठो अपुन एक बार बोलेगा

अंकल इसका मतलब क्या है ?

संजय भास्कर said...

अच्छा व्यंग्य......

राज भाटिय़ा said...

उदय भाई हामरा सालम!!!! मुझे भाई लोगो से बॊत डर लगता है

राजकुमार सोनी said...

अच्छा लेखन.
टीवी वालों के साथ अक्सर ऐसा हो जाता है.

महेन्द्र मिश्र said...

राजकुमार जी के विचारों से सहमत हूँ......