Monday, January 9, 2012

... हमें छू कर चला जाए !

ये कैसा शहर है जहां सब अपनी अपनी मर्जी के मालिक हैं
यहाँ पड़ोसियों की मर्जी से, किसी को कोई मतलब नहीं है !
...
मिटटी से बन के निकले हैं, मिट्टी ही हो जाना है
ये सोने, चांदी, हीरे, मोती, मेरे हैं किस काम के !
...
सच ! कहीं ऐंसा न हो, हम संकोच में डूबे रहें
और 'रब', हमें छू कर चला जाए !
...
भीड़ में, मेरी तन्हाई का मतलब कुछ भी मत निकालिए
इसमें, कौन नहीं दंगाई है, पहले ये तो हमें बताइये !
...
इजहार-ए-मुहब्बत में, शर्म करें तो भला क्यूँ करें
मुहब्बत बेशर्मी है ! ये किसने कह दिया तुमसे ?

2 comments:

निवेदिता said...

मिटटी से बन के निकले हैं, मिट्टी ही हो जाना है
.........जीवन का सच बताती पंक्तियाँ !

प्रवीण पाण्डेय said...

संकोच तो बड़े बड़ों को निपटा डालता है।