Thursday, June 6, 2013

घाव ...


ये,...टुच्चों-औ-लुच्चों का दौर है 'उदय'
यहाँ तुम्हारी-औ-हमारी बखत क्या है ?
...
कुर्सी का मोह छोड़ दें, क्यूँ भला अब हम 'उदय'
इक कुर्सी के ही तो खातिर, बेचा है ईमान भी ?
...
करोड़ों की भीड़ में, कहीं खो गये हैं 
हम,...............उन्हें ढूँढते-ढूँढते ? 
...
जैसे-तैसे ही घाव सूखे थे दिल के
मगर जालिम, आज फिर देख के मुस्कुरा गया हमको ?
...
उनकी ये अदा भी 'उदय', आज हमको खूब भा रही है
पीठ अपनी, ............... वे खुद ही थप-थपा रहे हैं ?
...

1 comment:

ARUN SATHI said...

उनकी ये अदा भी 'उदय', आज हमको खूब भा रही है
पीठ अपनी, ............... वे खुद ही थप-थपा रहे हैं ?
...
khoob...bahut khoob