Tuesday, January 10, 2012

सवाल ...

सामने खडा हर इंसान
अपने आप में एक सवाल है
वो -
क्यों आया है ?
क्यों खडा है ?
क्या चाहता है ?
जो जुबां पे है उसके, कितना सही है ?
उसने मीठी-मीठी बातें क्यों की हैं ?
उसके अन्दर -
क्या कड़वाहट छिपी हुई है ?
उस पर विश्वास करें, या न करें ?
इतना तो तय है
कि -
वह अनेक सवाल -
अपने सांथ ले कर आया है !
इन सवालों के जवाब -
क्या हमें मिल पाएंगे ??

2 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

सवाल मिल रहे, समय मिला तो जवाब मिलेंगे।

प्रतीक माहेश्वरी said...

यह तो हर इंसान पे लागू होने वाली बात है... सच्चाई!

प्यार में फर्क पर अपने विचार ज़रूर दें...