Saturday, December 3, 2011

... फिर भी जय जयकार का नारा है !

सच ! कोई समझाता हमें भी, इस 'क्यूँ' का मतलब
कहीं बेवजह ही, इस 'क्यूँ' में तो नहीं उलझे हुए हैं !!
...
चलो खुशनसीबी है, विद्या की, कुछ तो रास आया
वर्ना आज के दौर में, सच्ची कसम खाता कौन है ?
...
तुम नहीं, तो न सही, क्या हुआ
आज तुम्हारी भावनाएं सांथ हैं !
...
आज जिसको देखो, वो हुआ सरकार है
अब देख समझ के भिड़ने की दरकार है !
...
अब 'उदय' तुम ही सुनो, लोग कहते हैं वतन आजाद है
सच ! हमें तो, जिसको देखो वो 'बिजूका' लग रहा है !!
...
खरीद-फरोख्त का दौर है, हर किसी का मोल है
खरीदे गए या बिक गए, मौके-मौके का
मोल है !
...
जब से पकड़ ली हमने, दोस्तों में दुश्मनी की नजर
तब ही से, सुकूं व चैन के मौसम की, आई है बहार !
...
कुछ फर्क नहीं है चाहतों में, हम यह समझते रहे थे
जब देखा नजर से तुम्हारी, सब उल्टा-पुल्टा था !!!
...
कुछ इस तरह उदास है सारा जहां
लग रहा ऐंसे, जैसे कोई मायूस है !
...
सच ! हो हल्ला में हल्ला-बोल, आज चहूँ ओर ये नारा है
देश जा रहा भाड़ में देखो, फिर भी जय जयकार का नारा है !
...
सच ! खण्ड खण्ड पाखण्ड बिछा है सत्ता के गलियारों में
राम ही जाने अब क्या होगा, खेतों और खलियानों में !!

2 comments:

पत्रकार-अख्तर खान "अकेला" said...

haalat ki schchi tsvir pesh ki hai jnaab ne . akhtar khan akela kota rajsthan

प्रवीण पाण्डेय said...

सच ! खण्ड खण्ड पाखण्ड बिछा है सत्ता के गलियारों में
राम ही जाने अब क्या होगा, खेतों और खलियानों में !!

गजब की अभिव्यक्ति।