Monday, April 4, 2011

क्रिकेट, खिलाड़ी, पुरूस्कार, इस देश का अब क्या होगा !

अब तो सरकारें भी खिलाड़ियों की चमचागिरी पे उतारू हैं
क्रिकेट, खिलाड़ी, पुरूस्कार, इस देश का अब क्या होगा !
...
उफ़ ! क्या मंजर हुए हैं देखो, तेरी दीवानगी में यारा
जब कुछ बचा नहीं तो, खुद का सौदा किये पड़े हैं !!

...
सच ! माँ, ममता, दुआएं, आशीर्वाद, मेरा सफ़र आसां होगा
गर कोई चाहे रोकना हमको, फिर भी फासला तो तय होगा !
...
सुनते हैं साहित्यिक जमात में भी कुछेक नंगे-लुच्चों का डेरा है
उफ़ ! गर है तो उनकी नंगाई-लुच्चाई भी काबिले तारीफ़ होगी !
...
मुश्किल, मुश्किलें, मुश्किलात में भी हमें तो जीना होगा
कठिन से कठिन हालात क्यूं हों, सफ़र तय करना होगा !
...
'रब' ने कुछ कुछ सोच कर ही तुझे संवारा होगा
खुबसूरती में तुझसा, कोई दूजा बनाया होगा !
...
जिसने ढक लिया हांथों से अपना हंसी चेहरा
शायद वो चाँद से, कहीं कुछ कम नहीं होगा !

...
कोई अपना, छलता रहा जीवन भर, मुझे धीरे धीरे
हांथ, तन, मन, खाली हुए तो जाना छलावा मैंने !
...
सच ! तेरे शब्दों ने जो बनाए थे रिश्ते, मुझसे मीठे-मीठे
आज पास तू नहीं है, तब भी रिश्तों की कसक ज़िंदा है !
...
जिन्दगी का अंदाज भी क्या खूब अंदाज है 'उदय'
देखते रहो, गुजरते रहेगी, हौले हौले ये जिन्दगी !

4 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

आनी जानी,
गज़ब कहानी।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

आप बड़ी खूबसूरती से अपनी बात छोटे से शेरों के माध्यम से कह देते हैं...

शिवकुमार ( शिवा) said...

बिलकुल सही कहा आपने ..

bilaspur property market said...

क्या खूब लिखा है उदय जी
बहुत बढ़िया .........
देखते रहो, गुजरते रहेगी, हौले हौले ये जिन्दगी