Tuesday, March 8, 2011

दिल को, मन को, हर दम मुझको, भाती है एक लड़की !!

सच ! कोई कुछ भी कहे, तुमसा नहीं दूजा कोई
हुस्न, जिस्म, रंग, खुशबू, है सबसे जुदा जुदा !
...
मेरी महक, जिस्म, धड़कनों, जज्बों, का इम्तिहां लो
सच ! कहीं तुम मिट जाओ, मुझको मिटाते मिटाते !
...
नारी संग नारी, लड़ने-भिड़ने की है तैयारी
हार जाए, जीत जाए, संघर्ष है जारी !
...
जाने, किसने, किसका, हांथ पकड़ रक्खा है
सच ! लोग कर ही रहे हैं, जिसको, जो करना है !
...
नारी ने जन्मा है नर को, अन्दर पोसा, बाहर पोसा
रूप दिया, आकार दिया, जीवन और संस्कार दिया !
...
तेरी आँखों के मैकदे से, जब से दो घूँट पी के निकला हूँ
क्या कहें, तब से अब तक, नशे में ही बसर कर रहा हूँ !
...
तुझे देखते ही कदम मेरे, खुद-व्-खुद बहकने लगे हैं
उफ़ ! कब तक दिलासा दूं दिल को, क्यूं बहक जाऊं !
...
बदलने को, जमाने संग हम भी बदल जाते
कोई बेवफा कहे, सुनना खुशगवार नहीं था !
...
जताने, निभाने, भुलाने, आजमाने, सुनने, सुनाने
किसी दिन बैठ के बातें करेंगे, पहले दोस्ती कर लें !
...
मीठी, तीखी, भोली, चंचल, कोमल, लगे है तितली सी
दिल को, मन को, हर दम मुझको, भाती है एक लड़की !!

5 comments:

smshindi By Sonu said...

अन्तरार्ष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ|

जय हिंद जय हिंद जय हिंद

शिवकुमार ( शिवा) said...

अन्तरार्ष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ|

प्रवीण पाण्डेय said...

इस दिन की बहुत बहुत शुभकामनायें।

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!!

Patali-The-Village said...

अन्तरार्ष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ|