Tuesday, August 9, 2016

22 साल बाद ... !

22 साल बाद ...
जब लौटो
अपने शहर में
तो वो अपना-सा नहीं लगता

गलियाँ ...
नुक्कड़ ...
बगीचे की शाम ...
चौके-छक्के ... दौड़-कूद ... गप्पें ...

कुछ भी तो अपने नहीं लगते
शहर बदल गया है ..
या फिर मैं ... ?
सोचता हूँ तो खुद को निरुत्तर पाता हूँ

अब वो ...
हंसी-मुस्कान ...
छिपी नज़रें ...
आहटें ...
कुछ भी तो .. अपनी .. नजर नहीं आतीं

सब बदल-सा गया है ... शायद ..
इन 22 सालों में ...
कहीं कोई ...
आहट-सी भी नजर नहीं आती
दीवानगी की ... दिल्लगी की ... ??

~ श्याम कोरी 'उदय'

1 comment:

yashoda Agrawal said...

आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 11 अगस्त 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!