Thursday, April 4, 2013

फ़रिश्ते ...


तनिक जोर-आजमाईश तुम भी कर लो, 
फिर देखें, बनाते हो या बनते हो एप्रिल-फूल खुद यारा 
... 
वो इतने भी मुलायम नहीं हैं 'उदय', कि - दबाने से दब जाएँ 
पर, गर, खुद उनकी ही मंसा हो, तो फिर हम क्या कहें ???
... 
आज हमारी मुहब्बत का इम्तिहान है 'उदय' 
चुप रहो, ये पैगाम भेजा है उन्ने ???????
... 
ऐंसा सुनते हैं 'उदय', जो दिखता है वही बिकता है 
तो फिर, दुनिया ये समझ ले, हमें बिकना नहीं है ?
... 
एक तो, वो बगैर सहारे के खड़े हो नहीं पाते 
फिर भी, फ़रिश्ते कह रहे हैं खुद को वो ???
... 

3 comments:

yashoda agrawal said...

आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 06/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

yashoda agrawal said...
This comment has been removed by the author.
प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत ख़ूब