Thursday, February 28, 2013

मंसा ...


मेरे ही अन्दर ... तुम्हें ...
हर घड़ी ... 
मिल जायेंगे ...
आग ... 
पानी ...
हवा ... 
शीतलता ... 
धरा ... आसमाँ ...
धूप ... छाँव ... 
घर ... आँगन ... 
बस, तुम ... 
उस मंसा से ...
छूना,... टटोलना मुझे ??

2 comments:

MANU PRAKASH TYAGI said...

बढिया रचना

प्रवीण पाण्डेय said...

सब बहता है इस शरीर में।