Tuesday, February 28, 2012

कारवां ...

कौन जाने
किस घड़ी, कब ?
ये जिंदगी गुमनाम हो !
तुम अकेले
हम अकेले
आओ ...
क्यूँ न कारवां बन जाएं हम !!

1 comment: