Tuesday, December 6, 2011

क्या प्यार इसी को कहते हैं ?


मेरी पुस्तक - क्या प्यार इसी को कहते हैं ?

---
एक शार्ट व स्वीट स्टोरी है, जिसमें दोस्ती, प्यार व सेक्स का मिला जुला समावेश है जो पूर्णत: युवाओं पर केन्द्रित तथा युवाओं को ध्यान में रखकर ही मैंने लिखने का प्रयास किया है !

पुस्तक - क्या प्यार इसी को कहते हैं ?
लेखक - श्याम कोरी 'उदय'
पेज संख्या - 80 पेज
कीमत - 99 / - रुपये
प्रकाशन - नव्या पब्लिकेशन
संपर्क :- ॐ, गोकुल पार्क सोसायटी, ८० फीट रोड, सुरेन्द्र नगर, गुजरात ( इंडिया )
ईमेल - nawyapublication@gmail.com
फोन - 09662514007
नोट :- अन्य विस्तृत जानकारी के लिए नीचे लिंक पर संपर्क किया जा सकता है, धन्यवाद !!


http://www.nawya.in/kya-pyar-isiko-kahete-hai.html

3 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

पुस्तक की ढेरों बधाईयाँ, मौका मिलते ही पढ़ी जायेगी।

veerubhai said...

संक्षिप्त सी समीक्षा लेकिन झलक ज़रूर दे गई पुस्तक की बिना किसी पूर्व ग्रह के

बालकिशन said...

बहुत बहुत बधाई शयाम जी