Tuesday, November 22, 2011

... तो फिर कोई गुनाह नहीं था !

कुसूर शमा का था, ही था परवाने का
जलना नसीब था, जल जाना नसीब था !!
...
गुनाह इतना था कि तेरे सांथ नहीं था
गर होता तो फिर कोई गुनाह नहीं था !
...
कोई खता, और ही कसूर था उसका
ये सच बयानी की, सजा मिली है उसको !
...
कहीं ऐंसा हो 'उदय', लोग शब्दों में ही ढूँढने लगें हमें
अब लिखने का शौक है तो, ज़रा फूंक-फूंक के लिखो !!
...
लो आज फिर आईना, मुझे देखकर बिफर गया यारो
झूठ कह देता, तो उसका क्या चला गया होता यारो !
...
क्या करोगे समझ के तुम, अब उन दिनों की बातें
हंसी मुलाकातें, बाहों में बाहें, और वो चांदनी रातें !
...
क्या गजब दस्तूर हैं नेतागिरी के 'उदय'
चोर-उचक्के भी मर्जी के मालिक हुए हैं !
...
कब तलक तुम खुदी के दिल को समझाते रहोगे यारो
खुदी से पूंछते क्यूँ नहीं, क्या प्यार इसी को कहते हैं ?
...
कब तलक खुद को खुदी से तुम छिपाओगे 'उदय'
सच ! देखना एक दिन ज़माना जान जाएगा !!
...
आज आईने में, मैं खुदी को ढूंढ रहा था 'उदय'
उफ़ ! लग तो रहा था मैं, पर कन्फर्म नहीं था !

1 comment:

shreeshrakeshjain said...

बहुत सुंदर, मित्र।