Wednesday, October 19, 2011

सॉरी ...

कुछ ख़त पड़े थे
दराज में
किसी दिन मैंने खुद उन्हें
सहेज सहेज के रखे थे
किसी की याद में ...
जब जी चाहता
जब मन करता
दराज से निकाल-निकाल के -
पढ़ लेता था
छू लेता था
टटोल लेता था
याद कर लेता था किसी को
खो जाता था किसी में !

उनमे बचपन की लुका-छिपी
और जवानी की -
गर्म साँसों का मिश्रण था
कुछ भय था
कुछ चाह थी
कुछ प्यार का अनोखापन था
मिलने की -
और बिछड़ने की यादें भरी थीं उनमें
आज, न चाहकर भी -
सारे ख़त दराज से निकाल कर
सामने रख के जला दिए
राख को फूंक मार के उड़ा दिया !

शायद ! अब कोई -
याद नहीं आयेगा मुझे
क्या करूंगा अब, याद कर के उसे
जब वो
रहा ही नहीं
आज मालुम हुआ कि -
उसने दुनिया छोड़ दी है
परसों ही -
मुक्तिधाम में उसे मुक्ति दे दी गई !
सुनकर -
आँखें डब-डबा गईं मेरी
जाते-जाते उसने
संदेशा भी भेजा है -
दिल से, मुझे, सॉरी कहा है !!

2 comments:

ajit gupta said...

भावुक करने वाली रचना।

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत ही सुन्दर रचना।