Friday, September 16, 2011

... किसी न किसी दिन, मैं भी 'खुदा' हो जाऊंगा !

सच ! तुम कहते रहे, हम सुनते रहे, यकीन करते रहे
ऐसा क्या कहा हमने, जो सुनते ही, तुम भौंचक हुए हो !
...
हरेक सवाल में जवाब नजर रहे हैं 'उदय'
कब तक सुना जाए, कब तक चुप रहा जाए !
...
हम ! शायद, कुछ भी तो नहीं हैं
सिर्फ एक मुसाफिर के सिवा !!
...
क्या लिखूं, क्या नहीं, चहूँ ओर शोर है
झूठ की मंशा है जीत की, यही जोर है !
...
सच ! सारे शहर में चर्चा है कि वो बड़े लेखक हुए हैं
जब पूंछता हूँ, क्या लिखा, सभी खामोश रहते हैं !!
...
चलो जाने भी दो, अब ये बातें पुरानी हुईं
हमें भी आ गया है अब, बातें बनाना !
...
मेरा सच बोलना गुनाह हो जाएगा
प्यार करता हूँ उसे मालुम हो जाएगा !
...
नर, नारी, हिन्दू, मुसलमां
सदा होता रहा है, ईमान का सौदा !
...
हम जब तक थे, तो सिर्फ तुम्हारे थे
वक्त जो बदला, तो हम हमारे रहे !
...
गर लोग यूं ही पत्थर समझ, मेरे पास से गुजरते रहे 'उदय'
तो तय है किसी किसी दिन, मैं भी 'खुदा' हो जाऊंगा !

3 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत खूब।

सागर said...

bhaut hi sundar....

संजय भास्कर said...

वाह ... क्या कमाल का शेर है ... लाजवाब गज़ल है पूरी ...