Thursday, September 8, 2011

... फकीरी शान, जिंदाबाद है !!

भ्रष्टाचारियों को शर्म भी आए, तो भला क्यों आए
बेशर्मी ने ही तो उन्हें इस मुकाम तक पहुंचाया है !
...
क्या खूब चाहतें हैं, भले चुप-चाप ही सही
उफ़ ! कोई वेपर्दा है, तो कोई पर्दे में है !!
...
सच ! चलो जाने भी दो, किसी मासूम का दिल है
कभी गुमसुम रहता है, कभी ये हंस भी लेता है !!
...
हाई अलर्ट पे हाई अलर्ट, क्या खूब हाई अलर्ट है
एक के ऊपर एक रखते-रखाते, खूब हाई हुआ है !
...
सच ! अब क्या कहें, हमें होश कहाँ रहता है
लिखते लिखते 'शेर', 'बब्बर शेर' हो जाता है !!
...
अब तो ख्याल भी करता हूँ तो दो-चार मर जाते हैं
सच ! कोई बहुत खुश है, मेरे काम-धंधे से !!
...
सच ! अब कोई इस तरह मुझ पे इल्जाम लगाए
लिखता तो 'मीठा' ही हूँ, लोगों को 'कडुवा' लगे है !
...
अब कोई इन दलालों पे, भला क्यूं तोहमत लगाए
ये जिस्म, ईमान, और अब मुल्क के सौदागर हुए हैं !
...
अब क्या कहें, हम क्या हैं, क्या नहीं हैं
फिलहाल तो फकीरी शान, जिंदाबाद है !!

2 comments:

Rahul said...

Very nice .... so angry we r ..but dont know what to do !!

प्रवीण पाण्डेय said...

धन का बीहड़ और तिहाड़ी,
भली दिहाड़ी नीदें गाढ़ी।