Tuesday, September 13, 2011

... दफ्न कर के भी दोस्त घवराए हुए हैं !

सच ! कहीं ऐसा न हो, स्वर्ण मूर्तियाँ सहेज ली जाएँ
और पत्थर की मूर्तियाँ शोध के लिए छोड़ दी जाएँ !
...

आज उनके क़त्ल का इल्जाम, हम पे लग गया यारो
सच ! जिनसे बच-बुचा कर हम खुद जीते रहे थे !
...
जिनके वादों से मौत का ये मुकाम है आया
तो वो, और ही उनका पैगाम है आया !
...
सच ! किसी को खूब, बहुत खूब भाने लगे हैं हम
सुना है कुर्बानी के बकरे नजर आने लगे हैं हम !
...
आज हमने एक फरेबी से हाँथ मिला लिया है
उफ़ ! करते भी क्या, कोई चारा नहीं था !!
...
सबा होकर, फना होकर, मुहब्बत में हम 'खुदा' हो गए
कल तक थे सभी के, आज खुद से भी जुदा हो गए !
...
उफ़ ! आज हमने उन्हें ही सलाम ठोक दिया
जो शिखर पे पहुंचते ही गूंगे-बहरे हुए थे !
...
कोई बे-वजह हमसे मुंह फेर के बैठा था
हमें प्यार था तो, पर किसी और से था !
...
खौफ में इस कदर कदम डगमगाए हुए हैं
मुझे दफ्न कर के भी दोस्त घवराए हुए हैं !
...
न मुहब्बत का सुरूर, न माशूक की बेरहमी थी जेहन में
'उदय' जाने, बिना आशिक हुए, हम कैसे शायर हो गए !