Monday, September 12, 2011

स्वामी रामदेव ... जय हो !

बाबा जी
आई मीन स्वामी जी
अरे यार, मेरा मतलब
स्वामी रामदेव जी, जय हो !
भ्रष्टाचार
कालाधन
विदेशी बैंक
विदेशों में जमा कालाधन
आप, धन्य हो, बाबा जी
आपने जो दम-ख़म दिखाया
सच ! वह झन्नाटेदार था !!
पर, क्या करें, आई मीन क्या कहें
कुछ खुरापातियों ने
दांव-पेंच में, उलझा कर
उलटे, आपको ही पटकनी दे दी
खैर, कोई बात नहीं !
अभी भी मौक़ा है
खुरा पातियों
पैंतरे बाजों
दांव पेंचियों
हथकंडे बाजों
शतरंज बाजों को
सबक सिखाने ...
और खोई हुई प्रतिष्ठा
पुन: स्थापित ...
बस, इस बार
एक सूत्रीय कार्यक्रम के स्थान पर
पांच सूत्रीय कार्यक्रम
प्रयोग में, अमल में लाना होगा
तब कहीं जा कर
पुराना हिसाब-किताब ...
और, शान-मान-आन
जी हाँ, स्वामी जी, आपकी
उसे -सम्मान, पुन: स्थापित कर
विजयी परचम ...
पर वो पांच सूत्रीय कार्यक्रम ... क्या ... कैसा ...
... जय हो, जय जयकार हो !!

6 comments:

संजय भास्कर said...

स्वामी रामदेव जी, जय हो !

संजय भास्कर said...

विदेशी बैंक
विदेशों में जमा कालाधन
आप, धन्य हो,
......जय हो

ब्लॉ.ललित शर्मा said...

जय हो, जय जयकार हो !!

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

बाबा जी लगे हुये हैं, फिर आयेंगे और एक बात तय समझिये यदि बाबा जी के साथ नहीं हुये तो फिर कम से कम सौ साल फिर इन्तजार करना पड़ेगा.

प्रवीण पाण्डेय said...

देश का धन देश वापस आ जाये बस।

Suman said...

mo. 09450195427 per bat karay.nice