Tuesday, September 6, 2011

... कहीं-न-कहीं तो ये डगर जाएगी !

शायद कहीं कहने-सुनने, देखने-समझने में चूक हुई होगी
वरना ! आँखों का क्या, सदा ही डब-डबाई होती हैं !!
...
था कुछ अंधेरा वहीं पर, जहां से उजाला था
बुझ गया चिराग, फिर अंधेरा ही अंधेरा था !
...
कच्चे, खट्टे, पिलपिले, अधपके, नादां कलाकार
उफ़ ! कौन जाने, कब, कौन, क्या गुल खिला दे !
...
मेरे मुल्क में, मेरे ही लोग, चोर, खुदगर्ज, भ्रष्ट हुए हैं
सच ! कम से कम अंग्रेज भ्रष्ट तो नहीं थे !!
...
कभी समेटने, तो कभी सहेजने में वक्त गुजर जाता है
'उदय' तुम ही बताओ, किस घड़ी तुम्हें मैं प्रेम करूं !!
...
जब तलक धरती के भीतर, धधकते आग के शोले रहेंगे
सच ! तब तक गांधी, सुभाष, आजाद, जन्म लेते रहेंगे !
...
बात कड़वी जो कही, तीर-सी जा घुस बैठी
बात मीठी, जानें, क्यूं बेअसर हो जाती है !
...
जिन हांथों से करता रहा मैं गुनाह हर घड़ी
आज उन हांथों से, कैसे मैं इबादत कर लूं !
...
'उदय' जाने, किस ओर, कहाँ तक, मेरी नजर जाएगी
पर इतना तो तय है, कहीं--कहीं तो ये डगर जाएगी !
...
भीड़, जुनून, सुकून, थकान, और ये आराम के पल
उफ़ ! जाने कौन था, जो नजर डाले हुए था !!
...
पप्पू बेगुनाह था, पप्पू के पापा बेगुनहगार थे
फिर कौन गुनहगार था, कौन गुनहगार है !

3 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

कोई न कोई तो गुनहगार है।

सागर said...

behtreen prstuti...

संजय भास्कर said...

बहुत गहरी अभिव्यक्ति