Sunday, August 21, 2011

अनर्गल व्यानबाजी !

अब क्या कहें, किससे कहें
कुछ लोग हैं
जो कुछ का कुछ अलाप रहे हैं
कोई हैं जो -
जाति
धर्म
स्त्री
पुरुष
दलित
सवर्ण ...
के नाम पर गतिरोध पैदा करने में लगे हैं !

तो कोई हैं जो -
प्रधानमंत्री
सांसद
संसद
संसदीय प्रणाली ...
के नाम पर अनर्गल व्यानबाजी में लगे हैं !

तो कोई हैं जो -
न्याय
न्यायालय
न्यायपालिका
न्यायाधिपति
उच्च -
सर्वोच्च न्यायालय ...
के नाम पर गतिरोध डालने के भर्सक प्रयास में हैं !

क्या है, ये क्या हो रहा है, देश में, लोकतंत्र में
अरे भाई, मुद्दा भ्रष्टाचार का है
फिर
भ्रष्टाचारी भले चाहे जो हो
उसे दंड मिलना चाहिए !
कोई भी व्यक्ति, व्यक्तित्व, क़ानून से ऊपर नहीं हो सकता !

जब कल कोई सांसद ह्त्या करेगा !
जब कल कोई न्यायाधीश ह्त्या करेगा !
जब कल कोई प्रधानमंत्री ह्त्या करेगा !
तब
क्या उस हत्यारे को छोड़ दोगे !
शायद, नहीं !!
फिर, कोई भी भ्रष्ट, भ्रष्टाचार में लिप्त, भ्रष्टाचारी
भ्रष्टाचार निरोधक क़ानून से ऊपर कैंसे हो सकता है !!!

1 comment:

अशोक बजाज said...

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !