Thursday, June 16, 2011

... भ्रष्टाचारियों की, जबरदस्त पीठ थप-थपाई है !!

चारों पहर तलाश में तेरी, भटकता फिरा मैं दर-बदर
अब किस घड़ी मैं बैठकर, सजदा करूं - सजदा करूं !
...
बनना था, जो बिगड़ कर भी बन गई है बात
वरना बनते बनते, बिगड़ जाती है अक्सर !!
...
सावन बरसे, तरसे हैं मन, 'रब' जाने क्यूं बिछड़े हैं हम
तुम भूले - हम भूले, सावन के संग हंसी-ठिठोले !
...
रोज सोचते हैं, तुमसे बातें करें
देखते हैं तुम्हें, फिर रहा नहीं जाता !
...
तराश के पत्थर, जमीं में गाड़ दो यारो
देखना एक दिन, वही मंजिल सुझाएंगे !
...
गोश्त जबड़ों में हो जिनके, और लव हों रक्त से रंजित
भला कैसे, हम मान लें उनको, कि वो शैतां नहीं होंगे !
...
सवालों की आड़ में, क्या खूब खिचड़ी पकाई है
भ्रष्टाचारियों की, जबरदस्त पीठ थप-थपाई है !

2 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूब ...सारे अशआर एक से बढ़ कर एक

akhtar khan akela said...

kya bat hai bhtrin ..akhtar khan akela kota rajsthan