Tuesday, June 28, 2011

... उफ़ ! सारा सिस्टम कंटीला है !!

फर्क इतना ही है यारा, अमीरी और गरीबी में
कोई बिंदास सोता है, किसी को नींद नहीं आती !
...
रंगों से सजाई है, क्या खूब सजाई है दुनिया किसी ने
कहीं ख्याल, तो कहीं जज्बात, हैं रंगों में बिखरे हुए !
...
अब मुंह छिपाने, और सिर झुकाने का दौर नहीं रहा
सरे आम घूमते हैं, दागी : नेता, अफसर, दुराचारी !
...
जरुरत किसे है, और कौन चाहता है मजबूत लोकपाल
अन्ना, तुम, हम, या चहूँ ओर बिखरे भ्रष्ट नेता हमारे !!
...
हम कर तो रहे थे प्यार, बिना शर्तों के ही
पर हो गए मजबूर, तेरी शर्तों पे हम !

...
रिमझिम रिमझिम फुहारों संग, मन मेरा मचला जाए
तुम जाओ बारिश बन कर, तन मेरा है सूखा जाए !
...
चलो कुछ दिया ही है, भले झूठा सही
वरना लोग तो लूटने पे उतारू हैं !
...
हैं कुछ लोग जो आलोचना में मस्त हुए हैं
उफ़ ! समालोचना से उन्हें परहेज क्यूं है !
...
जाने कौन-सा चेहरा, है छिपा तस्वीर में तेरी
जो दिखता है, वो मुझे असली नहीं दिखता !
...
किसे उखाड़ें, और किसे उखाड़ें
उफ़ ! सारा सिस्टम कंटीला है !!

2 comments:

Kailash C Sharma said...

बहुत सारगर्भित और सटीक प्रस्तुति..

Arunesh c dave said...

bahut sahi likha hai apne