Thursday, May 5, 2011

बाल मजदूर ...

गंदी प्लेटें
उठाना, उन्हें धो देना !

वर्तन
समेटना, मांझ देना !

गाड़ियां
धोना, कपड़ा मार देना !

घरों में
झाडू, पौंछा लगा देना !

पानी भर, कपडे धो देना
हैं ऐसे बहुत से काम
जिन्हें, मैं कर लेता हूँ !

कभी खुशी से
कभी किसी के कहने पर
या भूख बढ़ने पर !

मैं खुद, जो सामने दिखता है
वह काम, खुशी खुशी कर
अपना भूखा पेट, भर लेता हूँ !

मैं मजदूर हूँ
लोग मुझे -
बाल मजदूर कहते हैं !!

7 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

विडम्बना ही तो है..

प्रवीण पाण्डेय said...

संवेदनात्मक।

संगीता पुरी said...

सही है !!

राज भाटिय़ा said...

सत्य हे जी

संजय भास्कर said...

कडवा सच

Patali-The-Village said...

सही है|धन्यवाद|

ANJAAN said...

बहुत खूब , मैं ब्लॉग जगत में नया हूँ सो मेरा मार्गदर्सन करे..
www.anjaan45.blogspot.com