Wednesday, April 27, 2011

... लव जो खोले, तो सभी रोने लगे !!

सच ! हमें तो लगे ऐसे, जैसे तिलस्मी गहराई हुई है
बिना माया, मायावी शक्तियों के, है मापना मुश्किल !
...
समय रहते संभल जाओ, इतराओ तुम हुश्न पे अपने
सच ! ये काया है मिट्टी की, जाने कब सिकुड़ जाए !
...
क्या कहें, भ्रष्टतंत्र पर, लोकतंत्र का कोई जोर नहीं
सच ! बहुत हो चुका भ्रष्टाचार, बस अब और नहीं !
...
बेकरारी का सबब, हमें मालूम है 'उदय'
क्या करें, फिर भी वहां जाना हमें मंजूर है !
...
कब तलक, आईने से, करें परहेज हम
जब भी देखेंगे, गुनह झलक ही जाएंगे !
...
हमें तो मुल्क ये, चोरों - उचक्कों का लगे है
पंचायत से जेल तक, लुटेरों की लाईन लगी है !
...
चुप हम बैठे थे, बड़ी खामोशियाँ थीं
लव जो खोले, तो सभी रोने लगे !!

4 comments:

vipin sethi said...

bahut khub sir

vipin sethi said...

bhaut khub sir

संजय भास्कर said...

JWAAB NAHI AAPKA SIR JI
BEHTREEN

Arunesh c dave said...

कड़वी दवा जरूरी है