Sunday, March 6, 2011

उफ़ ! फिर भी पंचायती के लिए, उसे पंच बना दिया !!

लड़ने को तो जहां से कहो, वहां से लड़ लें
मगर अफसोस ! बेईमान हुआ नहीं जाता !
...
दौलतें तो बहुत समेट कर, किसी ने रख लीं थीं 'उदय'
उफ़ ! मगर अफसोस, कोई चला गया, सब छूट गईं !
...
पता नहीं क्या सोच कर, 'रब' ने तराशा है तुम्हे
उफ़ ! अब तुम ही बताओ, क्यों चाहें हम तुम्हें !
...
दाम की पर्चियां देख देख कर भी ज़िंदा हैं
सच ! मंहगाई तो जान लेने पर उतारू है !
...
क्या दिल में, क्या दिमाग में, उथल-पुथल है 'उदय'
सच ! कोई कहे, या कहे, क्यों न बयां कर दें हम !
...
इस मुस्कराहट पर, 'रब' सदा मेहरबान रहे
कोई मुस्कुराता रहे, पर सदा मेरे साथ रहे !
...
कितनी मुद्दत से एक चाह रही, एक ऐसी सब हो
हम, तुम, सुहानी सब, बस तुम्हें हम देखते रहें !
...
आज की सब, हमें तो सुहानी सी लगे है
सच ! तुम सही, तुम्हारी यादें ही सही !
...
जाने क्यों तुम्हारे बगैर मुझे अच्छा नहीं लगता
तुम जब होते हो साथ, जिन्दगी खुशनुमा होती है !
...
कुर्सी, धन-दौलत, झूठी शान-शौकत, खंडित मान-मर्यादा
सच ! इन्हीं के इर्द-गिर्द, भटकते लोकतंत्र के हिमायती !
...
बेशर्मी की हद हो गई ! सब जानते थे, वह भ्रष्टाचारी है
उफ़ ! फिर भी पंचायती के लिए, उसे पंच बना दिया !!

4 comments:

राज भाटिय़ा said...

बेशर्मी की हद हो गई ! सब जानते थे, वह भ्रष्टाचारी है
उफ़ ! फिर भी पंचायती के लिए, उसे पंच बना दिया !!
वाह जी सच कहा आप ने, बहुत सुंदर रचना, धन्यवाद

Kailash C Sharma said...

बहुत सार्थक और सटीक चोट...

Patali-The-Village said...

बेशर्मी की हद हो गई ! सब जानते थे, वह भ्रष्टाचारी है
उफ़ ! फिर भी पंचायती के लिए, उसे पंच बना दिया !!
बहुत सार्थक और सटीक रचना| धन्यवाद|

प्रवीण पाण्डेय said...

आपका आक्रोश समझ में आता है।