Saturday, March 5, 2011

तो मैं उतना भी दोषी नहीं हूँ, जितना आप दिखा रहे हैं !!

.............................................
टू जी स्पेक्ट्रम, कामनवेल्थ, सीव्हीसी नियुक्ति, छोड़ दें
तो मैं उतना भी दोषी नहीं हूँ, जितना आप दिखा रहे हैं !!
............................................

2 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

सच है।

सुशील बाकलीवाल said...

सही बात है । लेकिन अभी तक तो कोर्ट ही भडक रही थी अब तो मेडम भी भडकने लगी है ।