Monday, February 7, 2011

बिक ही रहे हैं तो सही दाम लगाया जाए !!

पत्थर समझ हांथ में उठाया तो हम जान गए
सच ! आज अपनी या किसी और की खैर नहीं !
...
उम्मीद, इंतज़ार, प्यार, क्या खूब महबूब है तेरा
उफ़ ! सामने रहकर भी, बातें नहीं करता !
...
सच ! सच्ची खबरें, जब से अटपटी हुई हैं 'उदय'
लोग ठोक-पीट कर, उन्हें चटपटा बनाने में लगे हैं !
...
'दो टूक' बातें दमदार तो हैं 'उदय'
सच ! पर ज़रा करारी कम लगे हैं !
...
झूठ के पत्थर हांथों में लिए हैं
उफ़ ! ज्ञान की गठरी भारी लगे है !
...
लोग क्रीम, क्रीमी लेयर में उलझे हुए हैं
उफ़ ! मजलूम की आहें, दिखती नहीं हैं !
...
खरीद फरोख्त का दौर है, नामों में क्या रक्खा है
थोड़ा खुद को बेच दें, थोड़ा किसी को खरीद लें !
...
देखो, संभलो, खुद को संभालो यारो
इश्क ! सुनते हैं, आग का दरिया है !
...
घुटने टेक कर हम तुम्हें सलाम करते हैं
आप हमारे माई-बाप हैं प्रणाम करते हैं !
...
कोई खुद को बदले या बदले 'उदय'
सच ! देश की खातिर, हम खुद को बदल लें !
...
कोई अफसोस नहीं, और खंगाला जाए
बिक ही रहे हैं तो सही दाम लगाया जाए !

5 comments:

सुरेश शर्मा (कार्टूनिस्ट) http://cartoondhamaka.blogspot.com/ said...

शानदार व्यंग्य ! आज का आइना !

प्रवीण पाण्डेय said...

झन्नाट व्यंग।

kshama said...

कोई अफसोस नहीं, और न खंगाला जाए
बिक ही रहे हैं तो सही दाम लगाया जाए !
Theek hee hai!

राज भाटिय़ा said...

सहमत हे जी, इस अति सुंदर रचना से

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

करारी चोट..