Thursday, February 10, 2011

सच ! बढ़ रहे घोटालों की लपटें उन पर भारी पड़ेंगी !!

शराफत बेच के सियासत में लगे हैं लोग
'रब' जाने, अब इस वतन का क्या होगा !
...
चैनल की बढ़ी टीआरपी, किसी धोखे से कम नहीं
सच ! रिमोट की करामात है, कई मुगालते में हैं !
...
एक अर्सा हुआ खुशी के कहकहे नहीं सुने
उफ़ ! क्या करें, चहूँ ओर घोटाले ही घोटाले हैं !
...
शिकबे, गिले, दूरियां, आरजू, तमन्नाएं
छोडो इन्हें, आओ हंस के गले मिल लें !
...
कोरे पन्नों पे कलम घसीटी, एक हुनर है 'उदय'
सच ! ऐसे हुनरमंदों को दिल से नवाजा जाए !
...
तेज सर्द तूफानी हवाएं, चलने दो कोई बात नहीं
सच ! बढ़ रहे घोटालों की लपटें उन पर भारी पड़ेंगी !
...
ताउम्र जिसे दर्द समझ हम छिटकारते रहे
उफ़ ! आज मुश्किल घड़ी में, वो हमदर्द निकला !
...
किसी ने जिद मचा दी, वफ़ा पहचानने में
उफ़ ! मायूस हुआ, कोई फरेबी निकला !
...
सच ! ये देश है अपना, इसे हम ही बचायेंगे
भ्रष्टाचारियों को, सब मिलकर धूल चटायेंगे !!

5 comments:

Mukesh Kumar Sinha said...

bahut khub...abhi jaldi me hoon....isliye itna hi...:)

प्रवीण पाण्डेय said...

अपने पापों से कौन अछूता रहा है।

राज भाटिय़ा said...

किसी ने जिद मचा दी, वफ़ा पहचानने में
उफ़ ! मायूस हुआ, कोई फरेबी निकला !
यह फ़रेबी कोन हे? कही हमारे मन.... तो नही. बहुत ही सुंदर रचना धन्यवाद

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

आपके उफ और सच तो कमाल ढ़ाते हैं..

संजय भास्कर said...

फिर से प्रशंसनीय रचना - बधाई