Tuesday, February 1, 2011

उफ़ ! मजलूम की आहें, अब ज़िंदा कहाँ हैं !!

कोई कहता रहा जिन्दगी किताब है मेरी
उफ़ ! वक्त नहीं था, पढ़ नहीं पाए !
...
उसे यकीं नहीं था मौत का मेरी
उफ़ ! कब्र को टटोलने आती है !
...
उफ़ ! क्या गजब ढातीं हैं सहेलियां तेरी
तुम मिलती हो, और नहीं भी मिलतीं !
...
उसे गम था, और नहीं भी था
दिल जो टूटा था, वो मेरा था !
...
क्या कहें, अफसोस है, वो उसूलों में रहा
सच ! नहीं तो आज, वो सरताज होता !
...
कौन मानले, वो बहुत बड़ा है 'उदय'
सच ! हांथ छोटे हैं उसके, नीचे नहीं आते !
...
चलो कुछ कदम और, हम साथ साथ चल लें
सच ! फिर मंजिलें जुदा जुदा हैं !
...
'उदय' कहता है चाहतों की घड़ी मुक़र्रर नहीं होती
जब जज्बात उमड़ ही आये हैं, चाहतें बयां कर दो !
...
धधक
कर फटने दो, अब दर्द धरती का 'उदय'
उफ़ ! मजलूम की आहें, अब ज़िंदा कहाँ हैं !
...
बिस्तर, खिड़की, रोशनी, और सुबह का मंजर
सच ! जहन में आज भी माँ का बसेरा है !
...
तुम्हारी नींद को देखें, या देखें तुम्हें अब हम
सच ! तुम्हारे जागने से, मेरी रातें सुहानी हैं !
...
नेता, अफसर, मंत्री, ने खूब गुल खिलाये हैं 'उदय'
सच ! तब ही तो प्राथमिकी में नाम दर्ज कराये हैं !
...
सच ! गर तूने रश्में प्रेम की निभाई होतीं
'उदय' जाने, ये मंजिलें जाने कहाँ होतीं !
...
सच ! आज की सब, बहुत मीठी लगी है
किसी ने मिलने की, खुद से पहल की है !
...
कोई चाहता है समेटना मुझको, खुद में
सच ! किसी ने उम्मीद में बांहें बिखेरी हैं !
...
शैतानी रूह भी कांप जाती थी देख कर मुझको
सच ! माँ का साया था, हौसला था मुझमें !

8 comments:

उपेन्द्र ' उपेन ' said...

हर नज्म बेहतरीन.....सुन्दर प्रस्तुति.

Swarajya karun said...

बहुत अच्छी रचना . आभार .

मनोज कुमार said...

शैतानी रूह भी कांप जाती थी देख कर मुझको
सच ! माँ का साया था, हौसला था मुझमें !
बिल्कुल सही कहा! मां का अशीष हो तो हम बड़ी से बड़ी मुश्किलें पार कर जाते हैं।

अरविन्द जांगिड said...

बहुत ही सुन्दर....आभार.
----------------------
उदय जी आजकल कुछ नाराज चल रहें है क्या, आपका ब्लॉग पर स्वागत रहेगा-अरविन्द जांगिड.

प्रवीण पाण्डेय said...

माँ का आशीर्वाद बहुत है, जूझने के लिये।

Deepak Saini said...

बेहतरीन भाव, सुन्दर शब्दों के साथ..

निर्मला कपिला said...

बिस्तर, खिड़की, रोशनी, और सुबह का मंजर
सच ! जहन में आज भी माँ का बसेरा है !
हर एक पँक्ति मे सुन्दर भाव हैं। बहुत अच्छी लगी रचना। बधाई।

∂єєραк●•ツRana said...

शब्द जब भाव मेँ बदल जाए तो, तो शब्द बन जाते है अनमोल।