Sunday, August 15, 2010

स्वतंत्रता की ओर !

नई सोच
नई उमंगें
नई राहें
नई मंजिलें

नए कदम
नए जज्बे
नए हौसले
नया सफ़र

आओ चलें
हम-तुम
स्वतंत्रता के साथ
स्वतंत्रता की ओर !

7 comments:

Udan Tashtari said...

चलो!! कदम मिलायें..


स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.

सादर

समीर लाल

boletobindas said...

आजादी की हार्दिक शुभकामनाएं...नई कविता नए जोश के साथ वाह क्या बात है....

ललित शर्मा-للت شرما said...

वीर तुम बढे चलो-धीर तुम बढे चलो

जय हो

ललित शर्मा-للت شرما said...

"अस्माकं वीरा उत्तरे भवन्तु"

जय जय हो

शहरयार said...

अच्छी कविता लिखी है आपने.

मेरा ब्लॉग
खूबसूरत, लेकिन पराई युवती को निहारने से बचें
http://iamsheheryar.blogspot.com/2010/08/blog-post_16.html

निर्झर'नीर said...

आओ चलें
हम-तुम
स्वतंत्रता के साथ
स्वतंत्रता की ओर !


exceelent rachna ...gagar mein sagar

itne kam shabdon mein itne gahre bhaav

ni:sandeh ...kabil-e-daad

दिगम्बर नासवा said...

आमीन ... सफलता हाथ लगे ...