Thursday, March 1, 2018

अब .. आगे ... तुम्हारी मर्जी ..... ?

आज .. इंकलाब की जरूरत नहीं है
कत्लेआम की है,

ये कलयुग है
यहाँ तर्कों से जीत नहीं होगी,

अगर जीतना है राक्षसों से .. पिशाचों से .. तो ...
तलवार उठानी ही पड़ेगी,

नहीं तो .. वे ... तुम्हारा खून पी-पी कर
तुम्हें .. हरा देंगें ... मार डालेंगें .....

अब .. आगे ... तुम्हारी मर्जी ..... ?

- श्याम कोरी 'उदय'

4 comments:

रश्मि प्रभा... said...

http://bulletinofblog.blogspot.in/2018/03/blog-post_3.html

Dhruv Singh said...

आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' ०५ मार्च २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

निमंत्रण

विशेष : 'सोमवार' ०५ मार्च २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीय विश्वम्भर पाण्डेय 'व्यग्र' जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।

अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

Digamber Naswa said...

मर्जी तो हमेशा से रही है पर फिर भी कोई दर रहता है जो तलवार उठाने नहीं देता ...
कलयुग भी तो तभी आ गया है ...

عبدالله السيد said...

شركة تنظيف موكيت بالرياض الصفرات
شركتنا شركة تنظيف بالرياض الصفرات متخصصه في أعمال التنظيف للفلل والمنازل والبيوت والشقق والمجالس والموكيت والكنب والاثاث والخزانات وايضا فى مجال الكشف والعزل ونقل الاثاث افضل شركة تنظيف موكيت بالرياض بالمملكه العربيه السعوديه تخصصنا أيضا في جميع الخدمات
شركة تنظيف فلل بالرياض-شركة الصفرات لتنظيف فلل بالرياضشركة تنظيف فلل بالرياض الصفرات- الصفرات لتنظيف فلل بالرياض
شركة تنظيف مساجد بالرياض
شركة تنظيف مساجد بالخرج