Sunday, September 25, 2011

... नेता-पुलिस की सांठ-गांठ हुई है !

बदलता दौर है, जिस्मानी इश्क की चमक-चौंध है
कोई बोली लगाकर, कोई तोहफे सजाकर मुरीद है !
...
शहर में फैला सन्नाटा देख सन्न हो गया हूँ
हर एक दर और दीवार पे इंकलाब लिखा है !
...
सच ! भले बंजर है वो, किसी की नज़रों में
न जाने क्यूं मुझे, उपजाऊ नजर आती है !
...
बस्ती में खौफ,और जेहन में दहशत हुई है
सुनते हैं नेता-पुलिस की सांठ-गांठ हुई है !
...
चिंदियों को मिला-जुला कर टोपी बनाई है
सच ! सुनते हैं दर्जी होनहार हुए हैं !!
...
सच ! अब कोई हमसे, हमारी बातों की गारंटी न ले
कितनी मीठी, कितनी कड़वी हैं, खुद फैसला कर ले !
...
किसी ने मिलने की, तो किसी ने छोड़ने की जिद की है
क्या करें, एक मोहब्बत है तो दूजी नफ़रत है !
...
तेरी जी जी में तेरी जीजी याद आ गई
घर चल जल्दी पिटने की बारी आ गई !
...
भरी दुपहरी में, नंगे पांव कब तक खड़े रहते
तुम आते तब तक शायद हम मर गए होते !
...
क्यूं मियाँ किसे कनबुच्ची लगवा रहे हो
ख़ामो-खां भडुवों का रुतवा बढ़ा रहे हो !

3 comments:

डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Dr. Zakir Ali 'Rajnish') said...

उदया भाई, सचमुच बहुत तीखा सच परोसा है आपने।

------
आप चलेंगे इस महाकुंभ में...
...मानव के लिए खतरा।

प्रवीण पाण्डेय said...

बेहतरीन

सूर्यकान्त गुप्ता said...

सच ! अब कोई हमसे, हमारी बातों की गारंटी न ले
कितनी मीठी, कितनी कड़वी हैं, खुद फैसला कर ले ! हा हा हा सच तो है मगर गारंटी नही……