Saturday, February 12, 2011

उफ़ ! भाई लोग, नौ दो ग्यारह हो गए !!

काश, इतनी रौशनी हमें भी दे देता 'भगवान'
कुछ पल को सही, सारे अंधेरे दूर कर देते !
...
चलो आज उसकी सजाएं, आजमा लें हम
सच ! ये हमारे हौसले हैं, जो कम नहीं होंगे !
...
आज
जब मैंने तुम्हें देखा, लाल साड़ी में, अद्भुत
सच ! ऐसा लगा तुम मेरे आँगन का पलाश हो !
...
तुम खामोश थीं, फिर भी ऐसा लगा
सच ! जैसे तुमने मुझसे कुछ कहा है !
...
आज बहुत, जमीर बेचने को उतारू हैं
दौलत शौहरत के नशे में चूर हुए हैं !
...
कोई चापलूस कहता है, बुरा नहीं लगता
सच ! अब तो आदत सी हो गई है !
...
रात-दिन पैसा कमाने, छिपाने की धुन ने
सच ! बहुतों को दिल का मरीज बना दिया !
...
पैसा कमाने के चक्कर में
उफ़ ! बन गए घनचक्कर !
...
ये स्टाइल है अपुन का, कहो - है ख़ास
तब ही तो लोग, देखकर मायूस रहते हैं !
...
क्या ज़माना है, हमारे आने की खबर सुनकर
उफ़ ! भाई लोग, नौ दो ग्यारह हो गए !!

4 comments:

Bhojpurikhoj.Com said...

उदय भाई आपकी यह ब्लाँग पोस्ट बहुत ही अच्छी लगी ,आभार ।

सुप्रसिद्ध उपन्यासकार और ब्लाँगर नन्दलाल भारती जी का साक्षात्कार पढने के लिए यहाँ क्लिक करेँ>>

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर ओर सत्य से भरपूर आप की यह गजल धन्यवाद

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

ज़मानाइच खराब है।

प्रवीण पाण्डेय said...

अभागे होंगे वे जो कड़वा सच सुनने में डरेंगे।