Thursday, January 27, 2011

... ताउम्र जलता ... चिराग बुझ गया, बस्ती में अंधेरा है !!

सच ! भीड़ बड़ी, फिर बाजार छटने लगा
उफ़ ! कौड़ी के भाव, बिके, बैठे रहे !
...
कतरा कतरा खून, सींचते रहे, जमीं पर
वक्त ने चाहा अगर, किसान हम हो जायेंगे !
...
सच ! कातिल हूँ, क़त्ल करता रहा हूँ, मैं भाषा का
जब, जैसी, मर्जी हुई, तोड़-मरोड़, उधेड़बुन करता रहा !
...
ब्लॉग पोस्टें चढ़ रही हैं, टिप्पणियों के अर्द्धशतक हुए हैं
सच ! कोई मानें या मानें, हम तो टाप ब्लॉगर हैं !
...
ईमानदार ! अब क्या कहें, शायद यही दस्तूर हुए हैं
कभी कोल्हू के बैल, तो कभी सर्कस के शेर हुए हैं !
...
ताउम्र जलता रहा, कोई चिराग की तरह
चिराग बुझ गया, बस्ती में अंधेरा है !
...
झूठ, फरेब, मौकापरस्ती, इश्क के हथियार हुए हैं 'उदय'
देख के, संभल के, किसी को चाहो, तो टटोल के चाहो !
...
सच ! अब चंदन, गुलाब, हतप्रभ हुए हैं 'उदय'
समझ में नहीं आता, कोई उनसे चाहता क्या है !
...
कल, आज, कल, एक चक्र है 'उदय'
सच ! कुछ भी हो, तो भी बहुत कुछ है !
...
सच ! मैं ढूँढता फिरा, इधर उधर
खुशी, नाराज है, छिप गई है कहीं !
...
जिन्दगी गुजर गई, दर्द समेटते समेटते
सच ! शायद अब, इन आँखों में बसेरा है !
...
बुढ्डे ने एक नाबालिक से कर लिया था निकाह
सच ! बहुत खुश था, पर अब दुखी रहता है !
...
मन बेचैन हुआ मोहन का, कुछ सूझता नहीं
मंहगाई बढ़ रही है, कोई, उसे क्यों पीटता नहीं !
...
क्या करेंगे सीखकर, खेल के गुर 'उदय'
सच ! सब जानते हैं, मैच फिक्स होना है !
...
भाई बाँटते रहे जमीं और मकां, अपने अपने हिस्से में 'उदय'
मैं देखता रहा, मैंने पिता की तरह अदब करना सीखा है !
...
तिनके हैं तो क्या हुआ, बहते रहें 'उदय'
शायद किसी डूबते का सहारा बन जाएँ !
...
यह मिलन महज शिविर नहीं है 'उदय', जनयुद्ध है
मिटाना है, नेस्तनाबुत करना है भ्रष्टाचारियों को !
...
ये माना आजादी गुम हुई है 'उदय'
उफ़ ! हुक्मरान आजाद हैं !

12 comments:

अरूण साथी said...

क्रांतिकारी

नंगा सच

बहुत खूब उदय बाबू

संजय भास्कर said...

मिटाना है, नेस्तनाबुत करना है भ्रष्टाचारियों को !
....ek kadva sach hai

संजय भास्कर said...

तारीफ के लिए हर शब्द छोटा है - बेमिशाल प्रस्तुति - आभार.

deepak saini said...

वाह क्या कटाक्ष किया है
शुभकामनाये

kshama said...

कतरा कतरा खून, सींचते रहे, जमीं पर
वक्त ने चाहा अगर, किसान हम हो जायेंगे !
Kya gazab likha hai!

वन्दना said...

करारा व्यंग्य।

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

bahut achchha.
dhardar samyik vyang.

शिवकुमार ( शिवा) said...

बहुत खूब .

Kailash C Sharma said...

लाज़वाब..

प्रवीण पाण्डेय said...

इस अँधेरे में भी कोई लौ रह रह टिमटिमाती है।

महेन्द्र मिश्र said...

वाह भाई उदय जी ... बढ़िया रोचक प्रस्तुति...

Bhushan said...

ईमानदार ! अब क्या कहें, शायद यही दस्तूर हुए हैं
कभी कोल्हू के बैल, तो कभी सर्कस के शेर हुए हैं!
कटाक्ष की निरंतरता एक बिंब देने लगती है. बहुत खूब.