Tuesday, December 21, 2010

क्या फर्क पड़ता है !

भईय्या आपने बैंक लूट लिया
एफ.आई.आर.हो जायेगी !
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !!

भईय्या चौक पे मर्डर कर दिया
पुलिस पकड़ कर ले जायेगी !
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !!

भईय्या आपने इज्जत लूट ली
चलो यहाँ से भाग चलते हैं !
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !!

भईय्या नेताजी को टपका दिया
चलो अब तो भाग चलते हैं !
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !!

भईय्या कप्तान को चांटा जड़ दिया
खैर नहीं, चलो निकल लें !
छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं
क्या फर्क पड़ता है !!

भईय्या कभी तो कुछ फर्क ?
नहीं, कभी नहीं पडेगा !
क्यों, कैसे भईय्या ?
हमारा तंत्र है, सरकार हमारी है !!

15 comments:

संजय भास्कर said...

छोड़ ना जाने दे, सब अपने हैं, क्या फर्क पड़ता है !
.......आज यही हाल है देश का

संजय भास्कर said...

मेरा तो यही माना है आज के समय में ..पैसा फेको तमाशा देखो

संजय भास्कर said...

पैसे के बल पर बड़े से बड़ा अपराधी छूट जाता है

प्रवीण पाण्डेय said...

बड़ा जबर व्यंग ठोंका है, इसी तरह छोड़ छोड़ कर देश के उत्थान की आस छोड़ बैठे हैं।

JAGDISH BALI said...

ये हिज़ड़ों का शहर हैं जहां गांधी के तीन बंदर रहते हैं !

JHAROKHA said...

uday ji kya karara vyang likha hai.
maja aagaya padhkar.

भईय्या कभी तो कुछ फर्क
नहीं, कभी नहीं, और न पडेगा
क्यों, कैसे भईय्या
लोकतंत्र है सरकार हमारी है !
chodo na jano do,isase jyada kya likhun,bas itni hi budhi hammari hai---:)
poonam

mridula pradhan said...

wakayee,kuch fark nahin padta.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

जिसकी लाठी उसकी भैंस ....बढ़िया व्यंग

Kunwar Kusumesh said...

क्या फर्क पड़ता है.
सुन्दर व्यंग प्रस्तुत किया है आपने

सुरेश शर्मा (कार्टूनिस्ट) http://sureshcartoonist.blogspot.com/ said...

जोरदार व्यंग्य ! सुन्दर प्रस्तुति !

वन्दना said...

बढ़िया व्यंग............सुन्दर प्रस्तुति !

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

ऐसे ही चलता है हिन्दुस्तान सारी भारत...

वीना said...

बहुत अच्छा व्यंग....

राज भाटिय़ा said...

सहमत हे जी आप की बात से, धन्यवाद

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

uday bhai,
loktantr me jo ho jaye thoda hai.
sateek vyang.