Friday, November 12, 2010

टाईम पास

कल तक जो दोस्त बन जीत के सपने दिखा रहे थे
आज वही जंग--मैदान में सामने नजर रहे थे !
............................................
कल जो नेता मंहगाई पर लंबा-चौड़ा भाषण दे रहा था
आज वह मंहगाई बढाने के लिए व्यापारियों से गुटर-गूं कर रहा था !

8 comments:

Akhtar Khan Akela said...

uday bhayi shi khaa inki fitrt chupi rhe nqli cheraa saamne aaye asli chehraa chupa arhe. akhtar khan akela kota rajsthan

निर्मला कपिला said...

सटीक अभिव्यक्ति। आभार।

ललित शर्मा said...

बहुत बढिया श्याम भाई

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

nice

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बिकुल सही कहा है ...दोस्त भी ऐसे और नेता भी ..

मनोज कुमार said...

ये दोनों सच है, और कड़वा भी।

प्रवीण पाण्डेय said...

देश की दुर्दशा और क्या होगी।

दिगम्बर नासवा said...

अच्छा है टाइम पास ..... .