Saturday, November 6, 2010

दीपोत्सव !

दीप-दीवाली, दीपोत्सव
तुम-हम, हम-तुम दीपोत्सव

क्या तुम, क्या हम दीपोत्सव
सारा जग है दीपोत्सव !

8 comments:

Udan Tashtari said...

पर्व बीता

फिर भी

तुम हम

हम तुम

जीवनोत्सव!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बढ़िया प्रस्तुति ...

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर जी, धन्यवाद

प्रवीण पाण्डेय said...

सुन्द दीपोत्सव।

अशोक बजाज said...

'असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय, मृत्योर्मा अमृतं गमय ' यानी कि असत्य की ओर नहीं सत्‍य की ओर, अंधकार नहीं प्रकाश की ओर, मृत्यु नहीं अमृतत्व की ओर बढ़ो ।

दीप-पर्व की आपको ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं ! आपका - अशोक बजाज रायपुर

ग्राम-चौपाल में आपका स्वागत है
http://www.ashokbajaj.com/2010/11/blog-post_06.html

डॉ टी एस दराल said...

यह उत्सव , दीपोत्सव ही बेहतर है । शुभकामनायें उदय जी ।

कविता रावत said...

bahut sundar prastuti...
Deepotsav kee haardik shubhkamnayne

दिगम्बर नासवा said...

सुन्द दीपोत्सव ...