Saturday, July 31, 2010

दोस्ती दिवस


.................................

मौक़ा-परस्ती का हुनर, बेजोड़ हो गया
कल जो था गाँव का गंगू, आज सेठ गंगाराम हो गया |
...............

हमारी दोस्ती, 'खुदा' बन जाए, है इच्छा
अब खुशबू अमन की, 'खुदा' ही बाँट सकता है ।


.................................

16 comments:

संजय भास्कर said...

फ्रैंडशिप डे -ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगें

संजय भास्कर said...

इस दिन का अर्थ वही समझेगा जो मित्रता का अर्थ जनता होगा

संजय भास्कर said...

एक शाम मित्रता के नाम |अच्छी प्रस्तुति |बधाई

संजय भास्कर said...

दोस्ती दिवस मुबारक हो

संजय भास्कर said...

bahut khoob shyam uday ji ..........me to fan ho gaya apka

kshama said...

हमारी दोस्ती, 'खुदा' बन जाए, है इच्छा
अब खुशबू अमन की, 'खुदा' ही बाँट सकता है ।
Wah!

उठा पटक said...

babbar sher !

कविता रावत said...

आपको भी हमारी हमारी तरफ से मित्र दिवस की हार्दिक बधाई

राज भाटिय़ा said...

शेर अच्छॆ लगे जी

देवेश प्रताप said...

lajwaab rachna ..

1st choice said...

jhamaajham.

मनोज कुमार said...

हैप्पी फ़्रेंडशिप डे!

मनोज कुमार said...

02.08.10 की चिट्ठा चर्चा में शामिल करने के लिए इसका लिंक लिया है।
http://chitthacharcha.blogspot.com/

Udan Tashtari said...

हैप्पी फ़्रेंडशिप डे

शिवम् मिश्रा said...

एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं!
आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

परमजीत सिँह बाली said...

दोस्ती दिवस मुबारक हो