Saturday, May 15, 2010

... ब्लागजगत "नौटंकी" से कम नहीं है !!!

लगता है ब्लागजगत "नौटंकी" से कम नहीं है ... आये दिन नये नये कारनामें ... वाद-विवाद... तना-तनी ... मैं श्रेष्ठ-तू श्रेष्ठ-वो श्रेष्ठ .... नंबर-वन ... नंबर-टू ... दौड-भाग ...रोज वही किच-किच ... आरोप-प्रत्यारोप ... छीछा-लेदर ... अलविदा ... रूठना-मनाना...

... हो भी क्यों न ... घर की खेती है ... जो मन में आये वही करना है .... रोज घंटे-दो घंटे का "शो" ... कहीं न कहीं "नौटंकी" दिख ही जाती है ... आखिर कब तक ये "नौटंकी" चलते रहेगी ... लगता है ये सब जानबूझ कर ही होता है ... लोग बे-वजह ही भडका देते हैं ... इस भडका-भडकी में ... रोज एक न एक "शटर डाऊन" हो जाता है ... अब "शटर डाऊन" तो मतलब ... एक तरफ़ शुभचिंतकों का मोर्चा ... दूसरी तरफ़ विरोधियों का मोर्चा ... और फ़िर शुरु बमबारी ...

... बमबारी भी ऎसी कि कोई मान-मर्यादा नहीं ... बस ठोकम-ठाक ... गाली-गुल्ली ... नामी-बेनामी ... टीका-टिप्पणी ... पोस्ट पर पोस्ट ... चारों तरफ़ ... अपनी-तुपनी ... रेलम-पेल ... बिलकुल "मेले" जैसा माहौल ... एक-दो नहीं .... आठ-दस "नौटंकी" के पंडाल ... फ़िर क्या ... भीड पर भीड ... एक शो से निकल कर ... दूसरे शो में ... तीसरा,चौथा,पांचवा, छठवा ..... सभी सो "हाऊसफ़ुल" ....

... अरे भाई कोई है जो इस "नौटंकी" ................................ !!!!!!!

29 comments:

honesty project democracy said...

दरअसल जब तक ब्लॉग को देश और समाज हित से जोरकर इसे एक खोजी ब्लॉग पत्रकारिता का रूप नहीं देंगे ,तब तक ब्लोगिंग के ताकत और प्रभाव का विस्तार संभव नहीं है / क्योंकि सार्थक परिणाम और देश व समाज के लिए कुछ कर गुजरने की चाह को पैदा करना बहुत जरूरी है /

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

चढ़ने को टंकी एक ही बहुत थी। नौ हो गईं तो सुविधा अनंत हो गई।

M VERMA said...

लगता है ब्लागजगत "नौटंकी" से कम नहीं है ... आये दिन नये नये कारनामें ... वाद-विवाद... तना-तनी ... मैं श्रेष्ठ-तू श्रेष्ठ-वो श्रेष्ठ .... नंबर-वन ... नंबर-टू ... दौड-भाग ...रोज वही किच-किच ... आरोप-प्रत्यारोप ... छीछा-लेदर ... अलविदा ... रूठना-मनाना...'
*****
और फिर हो भी क्यों न, यह तो इस नौटंकी की सफलता है. जितना बड़ा परिवार उतने ही विवाद और मान मनौवल.
मत भूलें कि आप-हम सभी इस नौटंकी के पात्र हैं.

M VERMA said...

लगता है ब्लागजगत "नौटंकी" से कम नहीं है ... आये दिन नये नये कारनामें ... वाद-विवाद... तना-तनी ... मैं श्रेष्ठ-तू श्रेष्ठ-वो श्रेष्ठ .... नंबर-वन ... नंबर-टू ... दौड-भाग ...रोज वही किच-किच ... आरोप-प्रत्यारोप ... छीछा-लेदर ... अलविदा ... रूठना-मनाना...'
*****
और फिर हो भी क्यों न, यह तो इस नौटंकी की सफलता है. जितना बड़ा परिवार उतने ही विवाद और मान मनौवल.
मत भूलें कि आप-हम सभी इस नौटंकी के पात्र हैं.

जी.के. अवधिया said...

अब लिखने के लिये कुछ बाकी ही ना रहे तो नौटंकी के सिवा और क्या किया जा सकता है?

डॉ टी एस दराल said...

नौटंकी में भी निर्मल हास्य होता है । यहाँ तो वो भी नहीं , बल्कि --जो आपने कहा वो सभी ।

ललित शर्मा said...

अभी एक ही "टंकी" से राज भाटिया जी परेशान हैं। उसमें सीढी का भी काम पूरा नही हुआ है, कल ही कह रहे थे। जरा संभल कर चढना।

और आज आप 9 टंकी लेकर आ गए। देखिए कौन-कौन टंकीयारोही चढता है।

सूर्यकान्त गुप्ता said...
This comment has been removed by the author.
सूर्यकान्त गुप्ता said...

बहुत सही लिखा आपने। नीचता, श्रेष्ठता की परिभाषा यहाँ नही दी जा सकती। वह तो उनकी रचनायें बताती हैं।

May 15, 2010 8:20 PM

Anaam said...

और आप इस नौटंकी के सबसे बड़े भांड हो.

Yugal Mehra said...

शानदार नाटकीय प्रस्तुतीकरण ,

'उदय' said...

@Anaam
....लगता है तुम "दुम" दबा कर बेनामी बने घूम रहे हो ... "दुम" को दबा कर ही रखना ... नहीं तो कोई ....!!!!

'उदय' said...

... जितने भी लोग ब्लागजगत में "बुरखा" पहन कर घूम रहे हैं जरा सोच-समझ कर इस ब्लाग पर टिप्पणी करें ... इस ब्लाग पर बेनामी/अनामी/बुरखाधारी/दुम दबा कर घूमने वालों पर विशेष नजर है ... किस इंटरनेट कनेक्सन से ये लोग हिजडे की तरह तालियां बजा-बजा कर घूम रहे हैं वो "पता" लगाना बहुत आसान है ...!!!

दिलीप said...

sir sahi baat kahi...gutbaaji se na unka bhala hoga na hi hindi ya desh ka...hindi blog hindi ko badhava dene ke liye bana hai...uske uddeshy se bhatak gaye hain log...blogging sirf tippani ya chatke ban ke rah gayi hai...

नरेश सोनी said...

बिलकुल ठीक कहा भाई साहब।

राजेन्द्र मीणा said...

सही कह दिया भाई ...और वो भी फाटक से हमेशा की तरह ...यह नौटंकी ही तो है .....और तो और ये जीवन ही सबसे बड़ी नौटंकी है .....अच्छी प्रस्तुति

पी.सी.गोदियाल said...

agreed !

देवेश प्रताप said...

बिल्कुल सही कहा आपने ......

राजकुमार सोनी said...

उदय भाई
काहे फिजूल परेशान होते हो। बेनामी टिप्पणियों का भी ढंग से जवाब दो।
लगता है अब यह दिन आ गया है कि माताओं और बहनों से क्षमा मांगते हुए अपने ब्लाग के मत्थे पर ही लिखना पड़ेगा...
कृपया सभ्य महिलाएं इस ब्लाग को न पढ़े.. यहां आपका मन दुख सकता है। क्योंकि यहां हम गाली का जवाब डबल गाली से देते हैं।
जो जैसा बोले वैसा जवाब देना सीखो बंधु।

बी एस पाबला said...

हा हा हा

Akhtar Khan Akela said...

uday ji aadaab mubaark ho bhut khub likhaa andaaz achchaa he bs hm sbhi blogrs ab paarivaarik sdsy hen is liyen ab ldenge bhi to sukh dukh men bhi aek dusre ke kaam aayenge , akhtar khan akela kota rajasthan

Udan Tashtari said...

सब शांति से लिखते रहे, सब शांत हो जायेगा.

राज भाटिय़ा said...

उदय जी आप ने बिलकुल सही लिखा, यहां नोटंकी वाज ज्यादा है, जो मजा लेते है ओर बीच मै भावूक लोग भडक जाते है, इस अनामी/ अनामिका को आप ने सही जबाब दिया, मुझे समझ नही आती ऎसे लोगो की अकल कहां है, कभी फ़ंस गये तो ईज्जत तो इन के पास है नही, जो जायेगी, लेकिन बाकी जुर्माने या सजा से केसे बच पायेगे?? इस लिये इन सब से प्राथना है अगर उत्पात करना है, लोगो को तंग करना है खूब करो, ओर ठहके लगाओ, लेकिन जिस दिन फ़ंस गये उस दिन भी ठहके ही लगाना, माफ़ी मत मांगना..... उस दिन मेरे जेसा आदमी कोई रहम नही करेगा,

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

सत्य वचन!

sangeeta swarup said...

बात तो सही कही है....

Mansoor Ali said...

बलग़मी है सिफत बलागों की,
थूंक कर साफ़ अब गला कीजे.

AlbelaKhatri.com said...

sab theek hoga ji...............

aahista aahista......

Kumar Jaljala said...

महिलाओं में श्रेष्ठ ब्लागर कौन- जीतिए 21 हजार के इनाम
पोस्ट लिखने वाले को भी मिलेगी 11 हजार की नगद राशि
आप सबने श्रेष्ठ महिला ब्लागर कौन है, जैसे विषय को लेकर गंभीरता दिखाई है. उसका शुक्रिया. आप सबको जलजला की तरफ से एक फिर आदाब. नमस्कार.
मैं अपने बारे में बता दूं कि मैं कुमार जलजला के नाम से लिखता-पढ़ता हूं. खुदा की इनायत है कि शायरी का शौक है. यह प्रतियोगिता इसलिए नहीं रखी जा रही है कि किसी की अवमानना हो. इसका मुख्य लक्ष्य ही यही है कि किसी भी श्रेष्ठ ब्लागर का चयन उसकी रचना के आधार पर ही हो. पुऱूषों की कैटेगिरी में यह चयन हो चुका है. आप सबने मिलकर समीरलाल समीर को श्रेष्ठ पुरूष ब्लागर घोषित कर दिया है. अब महिला ब्लागरों की बारी है. यदि आपको यह प्रतियोगिता ठीक नहीं लगती है तो किसी भी क्षण इसे बंद किया जा सकता है. और यदि आपमें से कुछ लोग इसमें रूचि दिखाते हैं तो यह प्रतियोगिता प्रारंभ रहेगी.
सुश्री शैल मंजूषा अदा जी ने इस प्रतियोगिता को लेकर एक पोस्ट लगाई है. उन्होंने कुछ नाम भी सुझाए हैं। वयोवृद्ध अवस्था की वजह से उन्होंने अपने आपको प्रतियोगिता से दूर रखना भी चाहा है. उनके आग्रह को मानते हुए सभी नाम शामिल कर लिए हैं। जो नाम शामिल किए गए हैं उनकी सूची नीचे दी गई है.
आपको सिर्फ इतना करना है कि अपने-अपने ब्लाग पर निम्नलिखित महिला ब्लागरों किसी एक पोस्ट पर लगभग ढाई सौ शब्दों में अपने विचार प्रकट करने हैं। रचना के गुण क्या है। रचना क्यों अच्छी लगी और उसकी शैली-कसावट कैसी है जैसा उल्लेख करें तो सोने में सुहागा.
नियम व शर्ते-
1 प्रतियोगिता में किसी भी महिला ब्लागर की कविता-कहानी, लेख, गीत, गजल पर संक्षिप्त विचार प्रकट किए जा सकते हैं
2- कोई भी विचार किसी की अवमानना के नजरिए से लिखा जाएगा तो उसे प्रतियोगिता में शामिल नहीं किया जाएगा
3- प्रतियोगिता में पुरूष एवं महिला ब्लागर सामान रूप से हिस्सा ले सकते हैं
4-किस महिला ब्लागर ने श्रेष्ठ लेखन किया है इसका आंकलन करने के लिए ब्लागरों की एक कमेटी का गठन किया जा चुका है. नियमों व शर्तों के कारण नाम फिलहाल गोपनीय रखा गया है.
5-जिस ब्लागर पर अच्छी पोस्ट लिखी जाएगी, पोस्ट लिखने वाले को 11 हजार रूपए का नगद इनाम दिया जाएगा
6-निर्णायकों की राय व पोस्ट लेखकों की राय को महत्व देने के बाद श्रेष्ठ महिला ब्लागर को 21 हजार का नगद इनाम व शाल श्रीफल दिया जाएगा.
7-निर्णायकों का निर्णय अंतिम होगा.
8-किसी भी विवाद की दशा में न्याय क्षेत्र कानपुर होगा.
9- सर्वश्रेष्ठ महिला ब्लागर एवं पोस्ट लेखक को आयोजित समारोह में भाग लेने के लिए आने-जाने का मार्ग व्यय भी दिया जाएगा.
10-पोस्ट लेखकों को अपनी पोस्ट के ऊपर- मेरी नजर में सर्वश्रेष्ठ ब्लागर अनिवार्य रूप से लिखना होगा
ब्लागरों की सुविधा के लिए जिन महिला ब्लागरों का नाम शामिल किया गया है उनके नाम इस प्रकार है-
1-फिरदौस 2- रचना 3-वंदना 4-संगीता पुरी 5-अल्पना वर्मा- 6 –सुजाता चोखेर 7- पूर्णिमा बर्मन 8-कविता वाचक्वनी 9-रशिम प्रभा 10- घुघूती बासूती 11-कंचनबाला 12-शेफाली पांडेय 13- रंजना भाटिया 14 श्रद्धा जैन 15- रंजना 16- लावण्यम 17- पारूल 18- निर्मला कपिला 19 शोभना चौरे 20- सीमा गुप्ता 21-वाणी गीत 21- संगीता स्वरूप 22-शिखाजी 23 –रशिम रविजा 24- पारूल पुखराज 25- अर्चना 26- डिम्पल मल्होत्रा, 27-अजीत गुप्ता 28-श्रीमती कुमार.
तो फिर देर किस बात की. प्रतियोगिता में हिस्सेदारी दर्ज कीजिए और बता दीजिए नारी किसी से कम नहीं है। प्रतियोगिता में भाग लेने की अंतिम तारीख 30 मई तय की गई है.
और हां निर्णायकों की घोषणा आयोजन के एक दिन पहले कर दी जाएगी.
इसी दिन कुमार जलजला का नया ब्लाग भी प्रकट होगा. भाले की नोंक पर.
आप सबको शुभकामनाएं.
आशा है आप सब विषय को सकारात्मक रूप देते हुए अपनी ऊर्जा सही दिशा में लगाएंगे.
सबका हमदर्द
कुमार जलजला

Kumar Jaljala said...

महिलाओं में श्रेष्ठ ब्लागर कौन- जीतिए 21 हजार के इनाम
पोस्ट लिखने वाले को भी मिलेगी 11 हजार की नगद राशि
आप सबने श्रेष्ठ महिला ब्लागर कौन है, जैसे विषय को लेकर गंभीरता दिखाई है. उसका शुक्रिया. आप सबको जलजला की तरफ से एक फिर आदाब. नमस्कार.
मैं अपने बारे में बता दूं कि मैं कुमार जलजला के नाम से लिखता-पढ़ता हूं. खुदा की इनायत है कि शायरी का शौक है. यह प्रतियोगिता इसलिए नहीं रखी जा रही है कि किसी की अवमानना हो. इसका मुख्य लक्ष्य ही यही है कि किसी भी श्रेष्ठ ब्लागर का चयन उसकी रचना के आधार पर ही हो. पुऱूषों की कैटेगिरी में यह चयन हो चुका है. आप सबने मिलकर समीरलाल समीर को श्रेष्ठ पुरूष ब्लागर घोषित कर दिया है. अब महिला ब्लागरों की बारी है. यदि आपको यह प्रतियोगिता ठीक नहीं लगती है तो किसी भी क्षण इसे बंद किया जा सकता है. और यदि आपमें से कुछ लोग इसमें रूचि दिखाते हैं तो यह प्रतियोगिता प्रारंभ रहेगी.
सुश्री शैल मंजूषा अदा जी ने इस प्रतियोगिता को लेकर एक पोस्ट लगाई है. उन्होंने कुछ नाम भी सुझाए हैं। वयोवृद्ध अवस्था की वजह से उन्होंने अपने आपको प्रतियोगिता से दूर रखना भी चाहा है. उनके आग्रह को मानते हुए सभी नाम शामिल कर लिए हैं। जो नाम शामिल किए गए हैं उनकी सूची नीचे दी गई है.
आपको सिर्फ इतना करना है कि अपने-अपने ब्लाग पर निम्नलिखित महिला ब्लागरों किसी एक पोस्ट पर लगभग ढाई सौ शब्दों में अपने विचार प्रकट करने हैं। रचना के गुण क्या है। रचना क्यों अच्छी लगी और उसकी शैली-कसावट कैसी है जैसा उल्लेख करें तो सोने में सुहागा.
नियम व शर्ते-
1 प्रतियोगिता में किसी भी महिला ब्लागर की कविता-कहानी, लेख, गीत, गजल पर संक्षिप्त विचार प्रकट किए जा सकते हैं
2- कोई भी विचार किसी की अवमानना के नजरिए से लिखा जाएगा तो उसे प्रतियोगिता में शामिल नहीं किया जाएगा
3- प्रतियोगिता में पुरूष एवं महिला ब्लागर सामान रूप से हिस्सा ले सकते हैं
4-किस महिला ब्लागर ने श्रेष्ठ लेखन किया है इसका आंकलन करने के लिए ब्लागरों की एक कमेटी का गठन किया जा चुका है. नियमों व शर्तों के कारण नाम फिलहाल गोपनीय रखा गया है.
5-जिस ब्लागर पर अच्छी पोस्ट लिखी जाएगी, पोस्ट लिखने वाले को 11 हजार रूपए का नगद इनाम दिया जाएगा
6-निर्णायकों की राय व पोस्ट लेखकों की राय को महत्व देने के बाद श्रेष्ठ महिला ब्लागर को 21 हजार का नगद इनाम व शाल श्रीफल दिया जाएगा.
7-निर्णायकों का निर्णय अंतिम होगा.
8-किसी भी विवाद की दशा में न्याय क्षेत्र कानपुर होगा.
9- सर्वश्रेष्ठ महिला ब्लागर एवं पोस्ट लेखक को आयोजित समारोह में भाग लेने के लिए आने-जाने का मार्ग व्यय भी दिया जाएगा.
10-पोस्ट लेखकों को अपनी पोस्ट के ऊपर- मेरी नजर में सर्वश्रेष्ठ ब्लागर अनिवार्य रूप से लिखना होगा
ब्लागरों की सुविधा के लिए जिन महिला ब्लागरों का नाम शामिल किया गया है उनके नाम इस प्रकार है-
1-फिरदौस 2- रचना 3-वंदना 4-संगीता पुरी 5-अल्पना वर्मा- 6 –सुजाता चोखेर 7- पूर्णिमा बर्मन 8-कविता वाचक्वनी 9-रशिम प्रभा 10- घुघूती बासूती 11-कंचनबाला 12-शेफाली पांडेय 13- रंजना भाटिया 14 श्रद्धा जैन 15- रंजना 16- लावण्यम 17- पारूल 18- निर्मला कपिला 19 शोभना चौरे 20- सीमा गुप्ता 21-वाणी गीत 21- संगीता स्वरूप 22-शिखाजी 23 –रशिम रविजा 24- पारूल पुखराज 25- अर्चना 26- डिम्पल मल्होत्रा, 27-अजीत गुप्ता 28-श्रीमती कुमार.
तो फिर देर किस बात की. प्रतियोगिता में हिस्सेदारी दर्ज कीजिए और बता दीजिए नारी किसी से कम नहीं है। प्रतियोगिता में भाग लेने की अंतिम तारीख 30 मई तय की गई है.
और हां निर्णायकों की घोषणा आयोजन के एक दिन पहले कर दी जाएगी.
इसी दिन कुमार जलजला का नया ब्लाग भी प्रकट होगा. भाले की नोंक पर.
आप सबको शुभकामनाएं.
आशा है आप सब विषय को सकारात्मक रूप देते हुए अपनी ऊर्जा सही दिशा में लगाएंगे.
सबका हमदर्द
कुमार जलजला