Saturday, March 6, 2010

भारत की पहचान

एक छोटी सी बात अलग है
भारत की पहचान अलग है

कुंभ का स्नान अलग है
हिमालय की शान अलग है
फ़ौजों का आगाज अलग है
रिश्तों में मिठास अलग है

एक छोटी सी ............

होली की गुलाल अलग है
दीवाली की रात अलग है
दोस्ती का मान अलग है
दुश्मनी की घात अलग है

एक छोटी सी ............

इंसा का ईमान अलग है
नारी का स्वाभिमान अलग है
सर्व-धर्म की बात अलग है
भारत की पहचान अलग है

एक छोटी सी बात अलग है
भारत की पहचान अलग है ।

4 comments:

काजल कुमार Kajal Kumar said...

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति.

ali said...

अलग सी...पर अच्छी कविता !

राज भाटिय़ा said...

नाईस कविता जी

डॉ टी एस दराल said...

अलग अलग बातें --एक अलग अंदाज़ में । बढ़िया लगा ।