Friday, November 13, 2009

शेर

नहीं है रंज, तेरी बेवफ़ाई का
रंज है तो, तेरी खामोशियां हैं।
....................................
हम इंसा थे, या थे मिट्टी के पुतले
बारिश की बूंदों ने हमें मिट्टी बना डाला।
....................................
मुफ़लिसी में भी, न रहा हाथ तंग मेरा
अमीरों को भी, चाय पिलाता रहा हूं।
....................................
हम अच्छे थे तब तक, जब तक तूने 'खुदा' माना
फ़िर क्या था बुराई में, जब तूने बुरा माना।

19 comments:

M VERMA said...

सभी शेर बहुत अच्छे

राज भाटिय़ा said...

नहीं है रंज, तेरी बेवफ़ाई का
रंज है तो, तेरी खामोशियां हैं।
बहुत सुंदर जनाब सभी शेर बहुत अच्छे लगे

आनन्द वर्धन ओझा said...

बारिश की बूंदों ने... बहुत कुछ है इन पंक्तियों में ! कतरा-कतरा जज्ब कर हूँ इसे...
--आ.

Devendra said...

मुफ़लिसी में भी न रहा हाथ तंग मेरा
अमीरों को भी चाय पिलाता रहा हूँ मैं
--अच्छा शेर।

Harkirat Haqeer said...

नहीं है रंज, तेरी बेवफ़ाई का
रंज है तो, तेरी खामोशियां हैं

वाह जी ये खामोशी भी तो बेवफाई ही हुई न ....!!

हम अच्छे थे तब तक, जब तक तूने 'खुदा' माना
फ़िर क्या था बुराई में, जब तूने बुरा माना

बुराई में बुरा क्यों न माने भला .....??

अर्कजेश said...

वाह वाह । बहुत खूब शेर कहे हैं ।
खासकर
हम अच्छे थे तब तक, जब तक तूने 'खुदा' माना
फ़िर क्या था बुराई में, जब तूने बुरा माना

डॉ.पदमजा शर्मा said...

श्याम जी ,
अगर खामोशियाँ न होती तो शायद ये पंक्तियाँ ही न होती .

दिगम्बर नासवा said...

हम इंसा थे, या थे मिट्टी के पुतले
बारिश की बूंदों ने हमें मिट्टी बना डाला ...
ye oopar vaale ki kudrat ka kamaal hai ... mitti ko insa aur insa ko miti bana deta hai ...

मुफ़लिसी में भी, न रहा हाथ तंग मेरा
अमीरों को भी, चाय पिलाता रहा हूं ...
bahoot khoob hai ye sher .... jameen se juda huva ..

mark rai said...

shaandaar...........

Science Bloggers Association said...

रूमानी जज्बों का सुंदर प्रस्फुटन।
शेर बहुत प्यारे हैं।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

Roshani said...

हम अच्छे थे तब तक, जब तक तूने 'खुदा' माना
फ़िर क्या था बुराई में, जब तूने बुरा माना।
bahut hi sundar panktiyan hai....

'अदा' said...

मुफ़लिसी में भी, न रहा हाथ तंग मेरा
अमीरों को भी, चाय पिलाता रहा हूं।
Sabhi sher apne aap mein muqammal magar iska jawaab nahi..
bahut khoob likhte hain aap..
aap aaye hamare blog par aapka shukriya..

"अर्श" said...

jab puraane panne palat rahaa tha blog ka to yakaayak aapke blog pe nazar padi jo hameshaa se mujhe pasand hai ... saare hi she'r kamaal ke hai pahaal she'r jis komalataa ka parichay karaa rahaa hai wo padhate hi ban raha ahi ...


badhaayee

arsh

Priya said...

bahut khoob "मुफ़लिसी में भी, न रहा हाथ तंग मेरा
अमीरों को भी, चाय पिलाता रहा हूं।"

BrijmohanShrivastava said...

सभी शेर उत्तम

sandhyagupta said...

हम इंसा थे, या थे मिट्टी के पुतले
बारिश की बूंदों ने हमें मिट्टी बना डाला।

BAhut khub.

Murari Pareek said...

aapke sher to anmol hain ek kashis hoti hai jab padhte hain to!!

निर्झर'नीर said...

मुफ़लिसी में भी, न रहा हाथ तंग मेरा
अमीरों को भी, चाय पिलाता रहा हूं।

exceelent wah bahut khoob gahra sher

संजय भास्कर said...

हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

Sanjay kumar
http://sanjaybhaskar.blogspot.com