Tuesday, April 26, 2011

..... जय जय जय !

टन टना टन
फन फना फन
ना
चम चमा चम
फट फटा फट
उठ उठा उठ
चल चला चल
लड़ लड़ा लड़
चढ़ चढ़ा चढ़
बढ़ बढ़ा बढ़
जय जय जय !
...
(नोट :- ... ये पंक्तियाँ शोधकर्ताओं, डाक्टरेट की उपाधी की चाह रखने वालों व साहित्यिक मठों के स्थापितों को ध्यान में रख कर लेखन में उतर आईं हैं .... जल्दबाजी में कोई ये न पूंछे कि यह क्या लिख दिया है मैंने ... अनुरोध है गंभीरतापूर्वक भावों को समझने का प्रयास करें ... धन्यवाद ...)

3 comments:

ललित शर्मा said...

नहीं पूछेगें जी।

ललित शर्मा said...

नहीं पूछेगें जी।

ANJAAN said...

जय जय जय !